Category Archives: भक्ति

प्यार

कुछ बातें उन शहीदों के मुख से !!! जाने कितने संसार बिखर गए माता तेरे प्यार में जाने कितने लाल गुजर गए माता तेरे प्यार में गुज़र गए और बिखर गए जो फूल चुने थे प्यार से आँचल के तेरे रंग … Continue reading

Share
Posted in दुःख, भक्ति | Tagged , , , , | 8 Comments

सुनो तो

काली घनेरी बूँद से पूछो क्यों रो दिए इंसान हर तरफ मिला इंसान खो दिए । मंदिर हो या मस्जिद कहीं कलीसा सभी जगह वो तू ही था हर उस जगह, जिसको नज़र किये । ऐसा लगे क्यों तुझमे नहीं … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, जीवन तरंग, दुःख, भक्ति | 6 Comments

कोई तो लौटाए

लौट आते वो पंछी आम कि छावों वही अपना गांव बारिश सा बनी नदिया उसमे लहराती इठलाती नईया पुरानी यादें तोतले यारों कि बातें अपनों का साथ दूर से आती बारात तारों भरी रात माँ का प्यार फिर जोर से … Continue reading

Share
Posted in भक्ति | 2 Comments