Category Archives: ग़ज़ल

प्यार: जवाब या सवाल…

अच्छा हुआ जो कोई जवाब ना दिया रुसवा जो हो मुहब्बत वो लम्हात ना दिया । कोई तो दाग लगता दमन में प्यार के इस डर से उस सवाल से मुंह ही चुरा लिया । कोई तो हूक होगी मेरे … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल | 10 Comments

तमन्ना…

जिसके लिए जलाए थे सितारे चराग से पूनम की उस चमक को बादल चुरा लिए । झूठे से दो पलों की शिकायत करें तो क्यों न तुम कभी खफा थे न हम बेवफा हुए । शर्मों हया की सुर्खियां खामोशियाँ … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल | 8 Comments