Category Archives: श्रृंगार/प्रेम

कोई गिला नहीं

कोई गिला नहीं कोई गिला नहीं कि कोई जानता नहीं अब तो मेरा नसीब भी पहचानता नहीं । घनघोर रात पेड़ की परछाइयों का डर मेरे सिवा कोई भी जिसे मानता नहीं । अधखुली सी नींद हो कि धूप की चटख … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, जीवन तरंग, दुःख | 12 Comments

बिन खवाब क्या जीना

ये भी कोई जीना है। ये जीना क्या जीना है ये भी कोई जीना है हर पल सांसे गिनना है हर सांस में आंसू पीना है ये भी कोई जीना है। खोये खवाबों में है लेकिन क्या खवाबों का हमको … Continue reading

Share
Posted in जीवन तरंग, दुःख, श्रृंगार/प्रेम | Tagged , , , , | 2 Comments

तुम्हारी अमानत

ग़ज़ल जो व्यक्त करती है दर्द और इश्क़ को दिल में दर्द बहुत है लेकर थोड़ा मरहम आ जाओ वक़्त नहीं होगा तुम पर तुम जो है वापस ले जाओ । अश्क़ो की जागीर भरी है थोड़े मोती हैं बाकी … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, दुःख, श्रृंगार/प्रेम | 4 Comments

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।

भरी है दुपहरी बहे जा रहे हैं न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं । चले जा रहे हैं । खड़े पीठ करके भले उस तरफ हों मगर मंजिलों को तके जा रहे हैं। चले जा रहे हैं । … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, दुःख, श्रृंगार/प्रेम | Tagged , , , , , | 8 Comments

ऐ दोस्त…तुम ऐसे तो न थे

क्या हुआ? ऐ  दोस्त… जब से तुमको जाना है, तुम ऐसे न थे । यूँ कैसे बिखर गए, तुम ऐसे न थे । देखा गम से हमेशा दूर, तुम ऐसे न थे । चेहरे पर भोलापन आँखों में चंचलता न … Continue reading

Share
Posted in जीवन तरंग, दुःख | Tagged , , , , | 2 Comments

तन्हाईयाँ

तन्हाइयों की तलाश या किसी कसक की आहट ग़ज़ल इश्क़ या खुद से तार्रुफ़ ज़माने ने कोशिश बहुत की उड़ाने की हम वो परिंदे थे जो पिंजरे में बंद थे कभी तो गुजारिश नवाजिश से महकेगी वरना ज़िन्दगी तनहा तो … Continue reading

Share
Posted in दुःख, श्रृंगार/प्रेम | 8 Comments

प्यार

कुछ बातें उन शहीदों के मुख से !!! जाने कितने संसार बिखर गए माता तेरे प्यार में जाने कितने लाल गुजर गए माता तेरे प्यार में गुज़र गए और बिखर गए जो फूल चुने थे प्यार से आँचल के तेरे रंग … Continue reading

Share
Posted in दुःख, भक्ति | Tagged , , , , | 8 Comments

तंज़….

कभी दरिया कभी सागर से लगते हैं नैन पतझड़ से जब बरसते हैं । चश्म सजते हैं गुलाबी होकर तुमको बेरंग बना बैठे हैं । रात आई है कितनी बन ठन के चराग़ बिन जले ही जलते हैं । अलाव, … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, दुःख, श्रृंगार/प्रेम | 4 Comments

बंदगी: तुम्हारे नाम की

बड़ा आसां है कहना बेवफा कहना नहीं लेकिन बंदगी की हो कैसी भी मगर सर तो झुकाया है ॥ लगी है आज भी तुमसे छुपा कर रखी है लेकिन तुम्हे तो है पता सब कुछ कि तुमसे क्या छुपाया है … Continue reading

Share
Posted in ग़ज़ल, श्रृंगार/प्रेम | 10 Comments

कारण

दर्द नहीं है कोई मौका किसी को युहीं जो मिल जाये फूल नदी या हवा का झोंका बस युहीं जो चल जाये फूलों के बिस्तर वाले इसकी कीमत क्या जानेंगे दर्द उसी को मिलता है जो मरते मरते भी जी … Continue reading

Share
Posted in जीवन तरंग, श्रृंगार/प्रेम | Tagged , , , , , , | 6 Comments