तुम …

भुला दिए वो हमें यूँ किसी कसम की तरह
हमारे दिल में समाएँ हैं जो बचपन की तरह॥

वही ख्याल वही गम वही है शोख समां
ये राज़ तेरी मुहब्बत का है शबनम की तरह॥

लटें जो हिलती हुयी काँधों पे रूमानी है
सुनी है जैसे किसी एक कहानी की तरह ॥

हर एक पल हर एक लम्हा गुनगुनाता सा
किसी पतंग के पीछे है दीवानों की तरह ॥

चमकती आंखें अभी भी हैं इस ख्यालों में
अँधेरी रात में उड़ते हुए जुगनू की तरह ॥

तुम्हारे साथ में चलाना तुम्हारी ज़िद की अदा
लटक के यार के काँधे पे चले कदम की तरह ॥

झुकी नज़र का अदाओं से घुमड़कर उठाना
लचकती हाथ न आती किसी तितली की तरह ॥

ख्याल रखना हमारा छुपाना दुनियाँ से
चुरा के तोड़ी गए मोर की पंखी की तरह ॥

हँसी खनकती समाई है उनकी बातों में
हो जैसे लड़ते, बिखरते हुए कंचों की तरह ॥

तड़प है तेरी हँसी में छुड़ाए हाथों की
छुपे हुए किसी कांटे की एक चुभन की तरह ॥

तुम्हारी याद समाती है हर एक साँस में यूँ
शाम से रात तलक गिनते हुए तारों की तरह ॥

है तेरा साथ मेरे संग सदा रहेगा सनम
कि पहली तख्ती पे पकड़ी गयी कलम की तरह॥

=============
२ मई २०१६ को लिखित

Share
This entry was posted in ग़ज़ल, श्रृंगार/प्रेम. Bookmark the permalink.

12 Responses to तुम …

  1. rohit says:

    good one, congrates

  2. ashish says:

    kyu purani yaaden dohraate ho, kyu badle -2 se nazar aate ho.
    yaaden jyada nahi dohraate hain, aksar log un mein kho jate hain…

  3. तेरा साथ मेरे संग सदा रहेगा सनम
    कि पहली तख्ती पे पकड़ी गयी कलम की तरह…
    वाह जी बहुत खूब पुष्पेंद्र जी।वेहतरीन रचना।

  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (20-05-2016) को “राजशाही से लोकतंत्र तक” (चर्चा अंक-2348) पर भी होगी।

    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर…!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

  5. Arun Singh Bhadauriya says:

    शानदार
    “तुम”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *