कोई गिला नहीं

कोई गिला नहीं

Koi Gila Nahi

कोई गिला नहीं कि कोई जानता नहीं
अब तो मेरा नसीब भी पहचानता नहीं ।

घनघोर रात पेड़ की परछाइयों का डर
मेरे सिवा कोई भी जिसे मानता नहीं ।

अधखुली सी नींद हो कि धूप की चटख
बिखरे हुए सपनों पे नज़र डालता नहीं ।

रोते तो हैं आज भी हम दर्द से मगर
माँ के सलीके सी नज़र उतारता नहीं ।

गलतियां होती हैं मगर क्या है कायदा
मेरे पिता सा कोई मुझे डाँटता नहीं ।

आया ज़ुबाँ पे स्वाद वो नींबू आचार का
घर से चुरा के कोई हिस्सा बाँटता नहीं ।

हैं दोस्त तो बहुत मगर हैं कायदे में सब
कोई किसी कि गलतियां निकालता नहीं ।

नज़रें ही डबडबा उठी ये जानकर अभी
मुझको मेरा ही गांव अब पहचानता नहीं ।

गिनते हैं तारे रात में, कुछ याद आए पर
अब आसमाँ में कोई भी निहारता नहीं।

तनहाइयाँ हैं साथ में लग जाये न नज़र
उसके सिबा कोई भी दिल खंगालता नहीं ।

===
२७ फरबरी २०१७ को लिखित

Share
This entry was posted in ग़ज़ल, जीवन तरंग, दुःख. Bookmark the permalink.

12 Responses to कोई गिला नहीं

  1. Pammi singh says:

    बहुत ही सुंदर मनोभाव से सजी रचना…
    जिसे बार बार पढने को विवश करता है।
    This is an outstanding, inspiring poem written with touching beautiful emotions, love it till the end.

    • Pushpendra Singh Gangwar says:

      धन्यवाद पम्मी जी… आभार आपका इतने सहृदय शब्दो के लिए…

      आशा है आप हमारा संबल यूँही बढ़ाते रहेंगी ॥

  2. Rohit says:

    Bahut Badiya hai

  3. आपकी लिखी रचना “पांच लिंकों का आनन्द में” बुधवार 01 मार्च 2017 को लिंक की गई है……………http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ….धन्यवाद!

    • Pushpendra Singh Gangwar says:

      आभार यसोदा जी… आपके द्वारा प्रदत्त सुअवसर के लिए…

  4. दिगंबर says:

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल … नए अंदाज़ के शेरों के साथ सज्जित …

    • Pushpendra Singh Gangwar says:

      आभार नासवा जी… आशा है कि आपका प्रोत्साहन मिलता रहेगा।

  5. Wow !!
    Kamal ki Gajal
    Sunder manobhaon se labalab……
    Kya bat…..

    • Pushpendra Singh Gangwar says:

      धन्यववाद सुधा जी आपकी टिप्पड़ी के लिए।

      भविष्य में आपके प्रोत्साहन का आकांक्षी ।

  6. गोपेश मोहन जैसवाल says:

    सुन्दर कविता, सुन्दर भाव. किन्तु तुकांत कविता की दृष्टि से कहीं-कहीं मात्रात्मक दोष !

    • Pushpendra Singh Gangwar says:

      हार्दिक धन्यववाद गोपेश जी आपकी टिप्पड़ी के लिए। भविष्य में सुधार करने की कोशिश करूँगा ।

      भविष्य में आपके प्रोत्साहन का आकांक्षी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *