बिन खवाब क्या जीना

ये भी कोई जीना है।

ये भी कोई जीना है।

ये जीना क्या जीना है ये भी कोई जीना है
हर पल सांसे गिनना है हर सांस में आंसू पीना है
ये भी कोई जीना है।

खोये खवाबों में है लेकिन क्या खवाबों का हमको करना
डूब न जाये डर है तो फिर क्यों मझधार में है पड़ना
तैर रही पर डूब गयी कितनी मासूम सफीना है
ये भी कोई जीना है।

चंदा और तारे तोड़ तो दे लेकिन क्या उनका करना
किसकी मांग सजायेंगे और होगा वो किसका गहना
ज़ख्म भरे जो इस दिल के ऐसा कौन नगीना है
ये भी कोई जीना है।

डूब चुके हैं हम जिनमे वे आँखे गहरे सागर है
बिरानी बस्ती हो या शोर भरा बहरापन है
तोड़ दे बस झटके में दिल ऐसा कौन करीना है
ये भी कोई जीना है।

रूठ न जाएँ हम खुद से ये शायद सोचा होगा
बस थोड़ी तकलीफे थी जब ये हाथ कटा होगा
तिल तिल मरते रहते हैं जैसे ये खून पसीना है
ये भी कोई जीना है।

सपने तो आज बहुत से हैं लेकिन कोई वजह नहीं
बीती उम्र बहुत ढूंढी पर जहाँ छुपी उस जगह नहीं
इस जीवन के सपनो को अगला जीवन क्यों जीना है
ये भी कोई जीना है।
ये भी कोई जीना है।

=========
२७ जनवरी १७ को लिखित

This entry was posted in जीवन तरंग, दुःख, श्रृंगार/प्रेम and tagged , , , , . Bookmark the permalink.
 

तुम्हारी अमानत

broken-heart

ग़ज़ल जो व्यक्त करती है दर्द और इश्क़ को

दिल में दर्द बहुत है लेकर थोड़ा मरहम आ जाओ
वक़्त नहीं होगा तुम पर तुम जो है वापस ले जाओ ।

अश्क़ो की जागीर भरी है थोड़े मोती हैं बाकी
छोटा सा झोला भर लो और बाकी फेक चली जाओ।

फूल सभी मुरझाए हैं पर थोड़ी खुशबू तो है ही
हाथों को रंग लो चाहे, यादों की हवा उड़ा जाओ।

जश्न मुकाबिल क्या होगा जो आँखों से पी थी हमने
थोड़ी अब तक बची हुई है आखिरी जाम लगा जाओ।

थोड़ी साँसे बची हुई हैं दूर अँगीठी पर रक्खी
यही अमानत फ़ाज़िल सबसे जो चाहो तो ले जाओ।

कसते हैं फिकरे जो हम पर इश्क़ हमारा का क्या जाने
कुछ बदनाम हुए हम हैं, कुछ तुम हमें बना जाओ।

रश्क़ न करना हामिद हैं हम, रहम खुदा का है ज़ाहिर (प्रशंसक)
शाद तहों में छुपी हुई है चीर लो दिल को ले जाओ। (ख़ुशी)

इश्क़ हमारा वफ़ा की हद है रुसवा ना होने देंगे
शान वफ़ा की नज़रो से है नज़रें चुरा के ना जाओ।

मान लो हम हैं खुदा की रहमत यही इल्तिज़ा है बाकी
गिर्दाव तेज़ है फँसी सफीना पार लगे या डूबा जाओ॥ (भंवर, नाव)

=====
२५ नवम्बर २०१६ को लिखित

This entry was posted in ग़ज़ल, दुःख, श्रृंगार/प्रेम. Bookmark the permalink.
 

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं । चले जा रहे हैं ।

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।
चले जा रहे हैं ।

भरी है दुपहरी बहे जा रहे हैं
न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।
चले जा रहे हैं ।

खड़े पीठ करके भले उस तरफ हों
मगर मंजिलों को तके जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

बसे धडकनों में मेरी इस कदर कि
अमावस को पूनम कहे जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

मेरे सामने है पलक भर दूरी
मगर रास्ते हैं बढ़े जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

पढ़ी थी बहुत सी किताबों की दुनिया
भरम आज दुनिया पढ़े जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

तबाही मचा दी वजूद-ए-कफन में
बिना जिन्दगी के जिये जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

नुमाइश लगाया है खुद की खुशी का
समेटे गमों को हँसे जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

बहुत हो चुकी अब ख्याल-ए-बयानी
परे महफिलों से चले जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।
चले जा रहे हैं ।

This entry was posted in ग़ज़ल, दुःख, श्रृंगार/प्रेम and tagged , , , , , . Bookmark the permalink.